वाक्यांश के लिए एक शब्द

हमारे दैनंदिन जीवन में प्रचलित भाषा प्रयोगों में अनेक बार ऐसी स्थिति आती है कि हम किसी वाक्यांश के स्थान पर एक ही शब्द का प्रयोग कर लेते हैं। यह एक शब्द पूरी स्थिति या घटना क्रम का पूर्णतः प्रतिनिधित्व करने में सक्षम होता है।

 

वाक्यांशशब्द
जिसका कथन न किया जा सकेअकथनीय
जिसको किसी तर्क से काटा न जा सकेअकाट्य
जिसे खाया न जा सकेअखाद्य
वह स्थान जिस पर कोई जा न सकेअगम्य
सबसे पहले गिना जाने वालाअग्रगण्य
वह जो पहले जन्मा होअग्रज
वह जो इन्द्रियों द्वारा न जाना जा सकेअगोचर
वह जो कभी बूढ़ा न होअजर
वह जिसका कोई शत्रु पैदा ही न हुआ होअजातशत्रु
वह जिस पर विजय प्राप्त न की जा सकेअजेय
वह जो इन्द्रियों के अनुभव के परे होअतीन्द्रिय
मात्रा से अधिक वर्षा होनाअतिवृष्टि
वह जिसकी तुलना न की जा सकेअतुलनीय
वह जिसके जैसा दूसरा न होअद्वितीय
वह जो दूर की बात न सोच सकेअदूरदर्शी
वह जो दिखाई न देअदृश्य
आत्मा से सम्बन्धितअध्यात्म
पहाड़ के ऊपर की समतल भूमिअधित्यका
गजट में प्रकाशित सूचनाअधिसूचना
वह कथा जो मूलकथा में आएअन्तर्कथा
वह जो सबके मन की बात जानता हैअन्तर्यामी
अनेक राष्ट्रों के बीचअन्तरराष्ट्रीय
जिसका कोई अन्त न होअनन्त
वह जिसका दूसरे से सम्बन्ध न होअनन्य
वह जिसे किसी बात का पता न होअनभिज्ञ
वह जिसका कोई स्वामी (नाथ) न होअनाथ
पलकों को बिना गिरायेअनिमेष
वह जिसका वर्णन न किया जा सकेअनिर्वचनीय
वह जिसे रोका नहीं जा सकेअनिरुद्ध
वह जिसके अभाव में कोई कार्य संभव नहीं होअनिवार्य
वह उक्ति जो परम्परा से चल रही होअनुश्रुति
वह जिसके लक्षण प्रकार आदि न बताए जा सकेअनिर्वचनीय
वह जो अनुकरण के योग्य होअनुकरणीय
किसी कार्य के लिए दी जाने वाली सहायताअनुदान
वह जो बाद में जन्मा होअनुज
वह जो व्यर्थ खर्च करता हैअपव्ययी
वह कारण जिसे टाला न जा सकेअपरिहार्य
वह अंश जो पढ़ा हुआ न होअपठित
वह जिसकी पहले से आशा न की गई होअप्रत्याशित
वह जिस पर मुकदमा चल रहा होअभियुक्त
वह जिसे भेदा न जा सकेअभेद्य
छः माह में एक बार होने वालाअर्द्धवार्षिक
वह जिसे कम ज्ञान होअल्पज्ञ
वह जिसका वध न किया जा सकेअवध्य
वह घटना जो अवश्य घटने वाली हैअवश्यंभावी
वह जो कानून विरुद्ध होअवैध
वह जो बिना वेतन के काम करेअवैतनिक
वह जिसे क्षमा न किया जा सकेअक्षम्य
फेंक कर चलाया जाने वाला हथियारअस्त्र
वह जिसमें कुछ भी ज्ञान न होअज्ञ
पूरे जीवन भर/जीवन तकआजीवन
अपनी ही हत्या करने वालाआत्महंता/

आत्मघाती

पैर से लेकर सिर तकआपादमस्तक
शीघ्र प्रसन्न होने वालाआशुतोष
वह जो ईश्वर में विश्वास रखेआस्तिक
जो इन्द्रियों की पहुँच के परे होइन्द्रियातीत
वह जो ऋण से मुक्त हो गया होउऋण
पर्वत के नीचे की भूमिउपत्यका
वह भूमि जिसमें कुछ भी न उपजता होऊसर
इतिहास से सम्बन्धितऐतिहासिक
वह जो कविता करती हैकवयित्री
वृक्षों और लताओं से घिरा स्थानकुंज
वह जो बाह्य जगत् के ज्ञान से अनभिज्ञ होकूपमण्डूक
वह जो किए का उपकार मानेकृतज्ञ
वह जो कीटाणुओं को मारेकृमिघ्न
क्षण में नष्ट होने वालाक्षण भंगुर
क्षमा करने योग्यक्षम्य
चक्र है पाणि में जिसके वहचक्रपाणि
चार भुजाएँ हैं जिसके वहचतुर्भुज
वह रचना जो गद्य-पद्य मिश्रित होचम्पू
वह चर्चा जिसका कोई प्रामाणिक आधार न होजनश्रुति
वह जिसकी कुछ जानने की इच्छा होजिज्ञासु
वह जिसमें बाण रखे जाते हैंतरकश
वह जो तीन कालों की बात जानता हैत्रिकालज्ञ
वह जो तीनों गुणों से परे होत्रिगुणातीत
तीन माह में एक बार होने वालात्रैमासिक
वह जिसके दश मुख होदशानन
वह जिसके दश कन्धे होदशकंध
वह जिसे लाँघना कठिन होदुर्लंघ्य
वह जिसे भेदना कठिन होदुर्भद्य
वह जिसका दमन करना कठिन होदुर्दमनीय
वह जिसे पार करना कठिन होदुस्तर
वह जिसका जन्म अभी हुआ होनवजात
वह जो नाशवान हैनश्वर
वह जो ईश्वर में आस्था न रखेनास्तिक
वह स्थान जहाँ कोई भी जन न होनिर्जन
बिना पलकें गिराये देखनानिर्निमेष
वह जिसे बाहर निकाल दिया गया होनिर्वासित
वह जो ममता से रहित होनिर्मम
वह जिसे अक्षरों का ज्ञान न होनिरक्षर
वह जो रात्रि में विचरण करता हैनिशाचर
वह जो दूसरों के अधीन होपराधीन
पन्द्रह दिन में एक बार होपाक्षिक
वह स्त्री जिसे उसके पति ने छोड़ दिया होपरित्यक्ता
परिश्रम के बदले दी गई राशिपारिश्रमिक
दोपहर के पहले का समयपूर्वाह्न
वह जो शीघ्र उत्तर देने की बुद्धि रखता हैप्रत्युत्पन्नमति
वह जो दिखने में प्रिय लगेप्रियदर्शी
वह जो बहुत कुछ जानता हैबहुज्ञ
वह जिसे भाषा का पूरा ज्ञान होभाषाविद्
वह जो किसी के मर्म को जानलेमर्मज्ञ
वह जो मास में एक बार होमासिक
वह जो कम बोलता हैमितभाषी
वह जो कम खर्च करता हैमितव्ययी
वह जो खुले हाथ से दान करेमुक्तहस्त
वह जिसने मृत्यु को जीत लिया होमृत्युंजय
क्रम के अनुसारयथाक्रम
जहाँ तक सम्भव होयथासंभव
शक्ति के अनुसारयथाशक्ति
प्रतिष्ठा प्राप्त व्यक्तिलब्धप्रतिष्ठ
बालक को सुलाने के लिए गाया जाने वाला गीतलोरी
वह जो वर्णन से परे होवर्णनातीत
वह जो बहुत ज्यादा बोलता हैवाचाल
माता-पिता का सन्तान के प्रति प्रेमवात्सल्य
इच्छानुसार गर्मी व सर्दी का वातावरणवातानुकूलित
वर्ष में एक बार होवार्षिक
वह पुरुष जिसकी पत्नी मर गयी होविधुर
वह जो विषय विशेष का ज्ञाता होविशेषज्ञ
वह जो वेदों का ज्ञाता होवेदज्ञ
वह जिसे व्याकरण का पूरा ज्ञान होवैयाकरण
वे हथियार जो हाथ में पकड़कर चलाये जाते हैंशस्त्र
शत्रु को मारने वालाशत्रुघ्न
छूत से फैलने वाला रोगसंक्रामक
वह जो सबको समान रूप से देखेसमदर्शी
उसी समय घटित होने वालासमकालीन
एक ही समय से सम्बन्धितसमसामयिक
वह जो समान आयु का होसमवयस्क
वह जो सब कुछ जानता होसर्वज्ञ
देश का शासन चलाने हेतु नियमों की पुस्तकसंविधान
वह जो अपने आप पर निर्भर होस्वावलम्बी

 

Facebook Comments