Chemistry Notes (Part-3)

कार्बन तथा इसके यौगिक (Carbon and Its Compounds)

  • सभी कार्बनिक यौगिकों में कार्बन होता है। तथा इनमें से ज्यादातर हाइड्रोजन बंध द्वारा जुड़े होते हैं।
  • हीरा, ग्रेफाइट, चारकोल, कोक, कोयला इत्यादि विभिन्न प्रकार के कार्बन के रूप हैं।
  • जब कोई पदार्थ भिन्न-भिन्न रूपांतरित क्रिस्टल के रूप में पाया जाता है तो इसे अपरूपता कहा जाता है तथा पदार्थ का भिन्न-भिन्न रूप अपररूप कहा जाता है।
  • हीरा तथा ग्रेफाइट कार्बन के दो महत्वपूर्ण अपररूप हैं।
  • प्राकृतिक रूप में पाया जाने वाला हीरा बहुत ही कठोर पदार्थ है। यह कार्बन का शुद्ध रूप है। हीरा ऊष्मा तथा विद्युत का कुचालक होता है।
  • ग्रेफाइट गहरे भूरे रंग का अपारदर्शी पदार्थ होता है। इसकी सतह चिकनी होती है। यह विशेष धात्विक चमक वाला होता हैं। ग्रेफाइट, ऊष्मा तथा विद्युत का संचालक होता हैं। इसका उपयोग स्नेहक, इलेक्ट्रोड तथा पेंसिल बनाने में होता है।

 

हाइड्रो कार्बन

कार्बन तथा हाइड्रोजन के यौगिक को हाइड्रो कार्बन कहा जाता है। जैसे– पेट्रोलियम्।

यह तीन प्रकार का होता है।

(i) संतृप्त हाइड्रोजन, जैसे – मिथेन, इथेन इत्यादि।

(ii) असंतृप्त हाइड्रो कार्बन, जैसे – एल्कीन

(iii) एरोमैटिक हाइड्रो कार्बन, जैसे – बेंजीन

        

समावयवता: जब दो या दो से अधिक यौगिक अणुसूत्र के आधार पर समान होते हैं। परंतु गुणों में भिन्नता प्रदर्शित करते हैं तो इस गुण को समावयता कहा जाता है।

बैकलाइट: यह फिनॉल तथा फार्मल्डिहाइड के संयोग से निर्मित होता है। इसका उपयोग टेलीविजन, रेडियो के कवर तथा बाल्टी, जग, प्लेट इत्यादि के निर्माण में होता है।

 

पेट्रोलियम उत्पाद तथा उनके उपयोग

 

पदार्थउपयोग
नेष्थासंश्लिष्ट रेशे के उत्पादन
डीजलईंधन के रुप में
स्नेहकस्नेहक तथा दवा बनाने में
पेट्रोलईंधन के रुप में
कोलतारसड़क के निर्माण में

 

कोयला का प्रकार तथा उनमें कार्बन की मात्रा

 

कोयलाकार्बन की मात्रा
पीट50-60%
लिग्नाइट65-70%
बिटुमिनस70-85%
एंथासाइट85 – 90%

 

गैसीय ईंधन तथा उनके अवयव

 

ईंधनअवयव
प्राकृतिक गैसमिथेन
LPGब्यूटेन + प्रोपेन
बायोगैसमिथेन
प्रोड्यूसर गैसकार्बन मोनोक्साइड + नाइट्रोजन + कार्बन डाईऑक्साइड
जल गैसहाइड्रोजन + कार्बन मोनोक्साइड + कार्बन डाईऑक्साइड
कोल गैसहाईड्रोजन + मिथेन + कार्बन मोनोक्साइड + हाईड्रोकार्बन + कार्बन डाईऑक्साइड

 

Facebook Comments